Kapalı

Write some Articles

नारी हूँ,बेचारी नहीं !

भारत को जब दूर से देखो तो कितना खूबसूरत लगता है,एक साथ इतनी सारी संस्कृतियाँ यहाँ विराजमान हैं। हर रिश्ते को यहाँ उसकी उम्र से नहीं उसके पद से मान दिया जाता है,पर जितना भी करीब जाओ उतना ही इसका अस्तित्व धुंधला नज़र आएगा।रौंदा हुआ सम्मान कूड़े के ढेर में या किसी सड़क के किनारे अपनी ज़िन्दगी से लड़ता पड़ा मिल जायेगा। हाँ,मैं बात कर रही हूँ,महिलाओं की जो आज के वक़्त में आगे बढ़ने से कतराती नहीं,बल्कि अपनी किस्मत को अपने हाथों से गढ़ने की इच्छुक है। आज वो तिजोरी की चाभी नहीं बल्कि अपनी किस्मत की चाभी को अपने मुट्ठी में दबा कर चलना चाहती है। दुनिया की भीड़ में खोना नहीं बल्कि अपनी अलग पहचान बनाना चाहती है, पर कोई तो है जो उसके बढ़ते क़दमों पर ताक लगाये बैठा है। कोई तो परछाई है,जो रात के अँधेरे में बगल -बगल चल रही है। ये ताक लगी नज़रें,ये बगल में चलती परछाई ही तो ज़िम्मेेदार है,औरतों में पनपते खौफ के लिए,ये नज़रें और वो परछाई इसी समाज का ही हिस्सा है।

इसी समाज का यह एक हैवानियत भरा रूप है जो औरत के रास्ते का सबसे बड़ा काँटा है,जिसे वो जितना भी उखाड़ फेकने की कोशिश करती है,उतना वो काँटा चुभता है और दर्द देता है। अपनी मंज़िल की ओर बढ़ती औरत इस समाज से लड़ना अब धीरे - धीरे सीख रही है। जहाँ ये समाज एक ओर औरत के सम्मान को रौंदने में पीछे नहीं रहा वहीँ दूसरी ओर समाज का एक चेहरा और भी है,जो औरत के सम्मान के लिए उसी निर्दयी समाज से लड़ने को भी तैयार है। इसी के तहत अगर हम निर्भया केस की बात करें तो वहां अलग -अलग धर्म और जाति के लोग एक साथ इकट्ठा हो जहाँ एक तरफ निर्भया की ज़िन्दगी के लिए दुआ कर रहे थे,वहीँ दूसरी ओर उन दोषियों की सज़ा की भी गुज़ारिश कर रहे थे। उस वक़्त लोगों की उस भीड़ ने एक हुजूम का रूप ले लिया था। हर दिल में दुआ और ज़ुबान पे सज़ा की गुहार बसी थी। शायद इसीलिए हम समाज को पूरी तरह से इन अत्याचारों का दोषी नहीं कह सकते और वैसे भी ताली एक हाथ से बजती ही कब है,कहीं- न - कहीं महिलाओं ने भी इन अत्याचारों को बढ़ावा दिया है। कभी चुप रह के तो कभी अपनी मर्यादा लाँघ के तो कभी मजबूरी से हार के ज़िन्दगी से लड़ती तो है वो और अपनी मंज़िल का रास्ता ढूंढती है।दरअसल,महत्वाकांक्षाओं की दौड़ ही इतनी तेज़ है कि भाग लेने के बाद व्यक्ति सांस लेने को रुक ही नही सकता उसे वक़्त तभी मिलता है जब साँसे थमने का वक़्त करीब आ जाता है। इसी के तहत कुछ महिलायें इस दौड़ में जीतने के लिए अपनी घर की देहलीज़ के साथ मर्यादा को भी लाँघ जाती है।अपनी मंज़िल तक पहुचने के लिए अपने सपनों को हकीकत में बदलने के लिए अपने अस्तित्व को भी भुला देती हैं,और कभी - कभी तो हद तब हो जाती है,जब वे महिलाओं के लिए बने कानूनों का गलत इस्तेमाल कर कुछ निर्दोष व्यक्तियों के साथ दुर्व्यवहार करती है।जहाँ महिलाओं का ये रूप सामने आता है,वहीँ पुरुषों की हैवानियत ने भी महिलाओं की ज़िन्दगी में अफरा -तफरी मचा रखी है।जहाँ पुरुषों ने महिलाओं को अपनी बुरी नज़रों का शिकार बनाया वहीँ छोटी मासूम बच्चियों पर भी उन्हें तरस नहीं आया। बर्बरता भरे अपराध को अंजाम देने में भी पुरुष का दिल नहीं दहला पर यहाँ मैं आपका ध्यान फिर से निर्भया केस की ओर ले जाना चाहूँगी जिसमे सड़कों पर उतरे उस हुजूम में पुरुष वर्ग भी शामिल था,अर्थात सम्पूर्ण पुरुष वर्ग भी इन अपराधों का समर्थन नहीं करता।

लेकिन,फिर से बात घूम फिर के महिलाओं पर ही आती है कि उनके खिलाफ होने वाले अत्याचारों के लिए उन्हें खुद ही आवाज़ उठानी होगी,और उस बुलंद आवाज़ को इस बहरे शासन के कानों तक पहुँचाना होगा। इन अत्याचारों का सिलसिला काफी वक़्त से चल रहा है,पर थम नहीं रहा है,पर थमेगा।शासन और ये समाज दोनों ही जागेंगे और इन दरिंदों को मुंह तोड़ जवाब ज़रूर देंगे एक दिन,और महिलाओं के खिलाफ हो रहे अत्याचारों का अंत होगा।

- ज्योति सक्सेना

Beceriler: Article Writing

Daha fazlasını görün: articles write day, 100s articles write, weight loss articles write, articles write upsmessages, nutrition articles write, good health articles write, news articles write examples, articles write automobiles, poker unique articles write

İşveren Hakkında:
( 0 değerlendirme ) Lucknow, India

Proje NO: #6491044

3 freelancer bu iş için ortalamada 868₹/saat teklif veriyor

svirat000

i am a both English and Hindi writer i will give you unique article in which language you want in a defined time with best results.

888₹ INR / saat
(1 Değerlendirme)
0.3
monikagaur

Hey hi..... i am from india and writing is my [url removed, login to view] so many articles,poems and some scripts too. I am new on this [url removed, login to view] you are willing to get some unique stuff in hindi,you can hire me. Regards, Monika g Daha fazlası

883₹ INR / saat
(0 Değerlendirme)
0.0
jyotindrasinh

आपके लिए हम यह कार्य करने के लिए उत्सुक है ... हम आपको निराश नहीं करेंगे , आप निसंदेह हो सकते हे....

834₹ INR / saat
(0 Değerlendirme)
0.0